चाणक्य के 10 प्रेरणादायक वचन जो आपके जीवन मे काम आ सकते है| chanakya motivational quates


 

"रेंड़ी जैसे कमजोर छोड़ की सहायता ले कर हाथी को क्रोधित नहीं करना चाहिए। अगर महा शक्तिशाली के सामने लड़ाई करनी हो, तो पहले जांच कर लेनी चाहिए की क्या आपके पीछे ऐसा शक्तिशाली सहारा है या नहीं। "


"जो इंसान लेनदेन मे,शिक्षा या हुन्नर सीखने मे, खाने के वक्त और व्यवहार मे शर्म को छोड़कर स्पष्ट बात करता है वो ही सुखी होता है" 


"जंगल मे सीधे पेड़ सबसे को सबसे पहले कटा जाता है, और टेड़े मेडे को कोई छूटा तक नहीं वैसे ही इनां को ज्यादा सीधे और सरल स्वभाव नहीं रखना चाहिए" 


"सबंध स्वार्थ के आधन होते है। दो राज्य के बीच हो या दो व्यक्ति के बीच अगर परस्पर स्वार्थ नया हो तो सबंध बनते ही नहीं"


बिना जहर वाले सांप को भी अपनी फन को फैलाना चाहिए, क्योंकि सांप जहर वाला है या बिना जहर का किसको पता होता है? लेकिन हर कोई सांप से दर्ता तो जरूर है"


"अपने गुण से इंसान महान बंता है, उचे आसान पर बैठने नहीं। महेल के उचे आसान पर बैठने से कौआ गरुड नहीं बन जाता"


"किसी भी काम की एकबार शुरुआत करने के बाद असफलता का डर मत रखिए ईमानदारी से काम करने वाल इंसान ही सुखी होता है"


"पागल इंसान से पाच गज, घोड़े से दस गज और हाथी से सो गज की दूरी रखने मे ही भलाई है। खराब इंसान से बचने के लिये स्थान का त्याग करने मे कोई बुराई नहीं है" 


"जैसे जैसे बूंद बूंद करके पूरा घड़ा पानी का भर जाता है, वैसे ही धीरे धीरे पैसा, शिक्षा और श्रेष्ठ कार्य करते रहने से एक दिन वो पूरा समृद्धि का खजाना बन जाता है" 


"आजतक किसीने सोने का हिरण नहीं होने के सबूत मिले है, और नाही किसीने देखा है। लेकिन फिरभी भगवान राम उस हिरण को पकड़ने के लिए जाते है। एक बात तो है, की इंसान के खराब समय के डोरण उनकी बुद्धि खराब हो जाती है" 


ये भी  पढे :- web series scam 1992 : the Harshad Mehta story  के कुछ जबरदस्त मोटीवेशनल डायलॉग 








टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां