जीवन मे सफलता के नए सूत्र - jeetology

 दोस्तों सफल कोन नहीं होना चाहता? सब लोगों को सफलता चाहिए लेकिन बहुत कम लोग अपनी निर्धारित सफलता तक पहुच पाते है। मतलब की लोग कुछ करने का सपना देखते है और और उसपर काम भी करना शुरू कर देते है। लेकीन वो अंत मे अपने सपने पूरे नही कर पाते। हमे सफलता क्यों नहीं मिलती? इसका जवाब आप ये आर्टिकल पूरा होते मिल जाएगा। फिर चाहे आप को सफलता व्यापार मे चाहिए या फिर राजनीति मे या अपने जीवन मे। इस सूत्रों के अनुसार आप चलोगव तो सफलता पक्की है। 

सफलता के सूत्र,	 जीवन में सफलता के सूत्र, राजनीति में सफलता के सूत्र, व्यापार में सफलता के सूत्र,	 सफलता के सूत्र बताइए,	 सफलता के सूत्र क्या है,	 नेटवर्क मार्केटिंग में सफलता के सूत्र,	 सफलता के सूत्र हिंदी,	 सफलता के सूत्र इन हिंदी, सफलता के सूत्र वीडियो,


 आर्टिकल ( जीवन मे सफलता के नए सूत्र - jeetology )  शुरू करनेसे पहले मे आपको बतादु की इस्म कोई सफलता पाने का शॉर्टकट रास्ता नहीं बताया जाएगा। ये आर्टिकल सफल लोगों की आदते, उनका सोचने का तरीका और उसके काम करने के तरिको से ये आर्टिकल बनाया गया है।


लक्ष्य बनाओ

 सफलता प्राप्त करने का पहला सूत्र लक्ष्य बनाना है। अगर आपकी जिंदगी मे लक्ष्य ही नहीं होगा तो आप किस दिशा मे जाएंगे? आपको कोई रास्ता नहीं दिखेगा और आप भटकने लगोगे। लेकिन एकबार आपने अपना लक्ष्य पक्का करलिया तो आप कुछ भी कर सकते हो।

 अगर आप फूटबॉल खेलते हो और आपको आपको पता ही नहीं है, की गोल कहा पर करना है तो आप सिर्फ मैदान मे दोडते  ही रह आओगे। आपको पहले अपना लक्ष्य तो बनाना ही पड़ेगा फिर भले आपको इस वक्त आसान नया लगे, भले ही वो लक्ष्य कितना ही दूर क्यों न हो।

 मे आपकों एक उदाहरण से समजाता हूँ। मान लीजिए की आप मुंबई मे रहते है और आपको दिल्ली तक जाना है। तो आप क्या करोगे? मेरे इसस सवाल मे आपका लक्ष्य पक्का हो गया है यांनी की आपको दिल्ली तक जाना है। अब किस तरिके से जाना है? कितने दिन मे पहुचओगे? किधर से जा सकते है ये सब  आपको नाहन पता लेकिन आपका लक्ष्य बाँ गया है की किसीभी हाल मे मुजे दिल्ली तक जाना है।


 ये भी पढिए :-  पढ़ने मे ध्यान कैसे लगाए ?


 जब आपका लक्ष्य पक्का होगा तो आपको अंदर से जवाब मिलने शुरू हो जायेगे की मे रोड से ट्रेन से या फिर फ्लाइट से दिल्ली जा सकता हूँ। अब मानलो की आप रोड से दिल्ली जाते हो तो बीचमे कई सारे शहर आएंगे, कई रास्ते खराब होंगे, आपकी वाहन मे कुछ प्रॉब्लेम आएगी, हो सकता है की आधे पहुचकर रास्ता बांध हो।  ये सब मुसीबतों के होते क्या आप वापस मुंबई आ जाओगे या फिर दिल्ली जाने का दूसरा रास्ता खोजोगे? आप दूसरा रास्ता खोजोगे।

उसी तरह एकबार लक्ष्य बनालों रास्ते अपने आप बनने लगेंगे चाहे जो हो जाए लक्ष्य हासिल करो।


धेर्य रखना जरूरी है

सफलता का दूसरा  कदम है धेर्ययानि की अगर आपको सफलता नहीं मिलती है तो हार नहीं माननी है  अपने काम मे लगे रहना है एकबार सफलता नहीं मिलती तो सोचो एअपने क्या गलती करी है। और आगे एक कोशिश करो। थॉमस अल्वा एडिसन ने 9999 बार हार के बाद भी उसने कोशिश करता रहा और वो बल्ब बनाने मे कामयाब हुआ।

  ये भी पढिए :- मोटीवेशनल कोट्स 

सफलता रातोंरात मिलने वाली चीज नहीं है सफलता पाने के लिए आपको उसके लायक बनना पड़ेगा। जब हम कोई दुकान पर कुछ छीजे लेने के लिए जाते है तो बदलेमे हम दुकानवाले भैया को पैसे देते है। उसी तरह अगर आप अपने सपने पूरे करना चाहते हो तो आपको कुदरत को भी कीमत चुकानी ही पड़ेगी।


 स्थिरतता बनाए रखे ( consistency) 

 सफलता हासिल करने के लिए स्थिरता होना बेहद जरूरी होता है। यानि की अपने काम को लगातार करते रहना। जब हमे अपने काम मे रिजल्ट नहीं मिलता तो हम बिना काम कोशिश करे हताश हो जाते है। और अपने काम को बीच मे ही छोड़ देते है। 

 ज्यादातर लोग तब हार मान लेते है जब वो सफलता के करीब ही होते है। चाहे जो भी हो जाए एअपने जो काम शुरू किया है उसे खतम करके ही रहना। अगर थोड़ा समय लगता है तो लगने दो। अगर एक पथथर पर कोई एक पानी की जलक डाले तो उस पथथर को कुछ नहीं होता। 

 लेकिन उसी पथथर पर बूंद बूंद कर पानी दल जाए तो वो पथथर भी टूट जाता हैं। वैसे ही एकबार की कोशिश मे सफलता नहीं मिलती लगातार मेहनत करती राहनी चाहिए।

हंमेशा सीखते रहिए 

अगर सफलता हासिल करना चाहते हो तो आपको सीखते रहना चाहिए। आपके लक्ष्य से संबंधित जो भी ज्ञान मिले उसे आपको स्वीकार नया चाहिए। चाहे वो बुक के माध्यम से हो। या फिर कोई विडिओ हो हंमेशा सीखने की भावना रखनी चाहिए। जिस दिन अपने सीखना बन कर दिया उस दिन समजलों आपकी सफलता का रास्ता बंध हो गया। 

 विवेक बिन्द्रा कहते है की "अगर आपको सचमे सफल होना है तो आप सफल लोगोंकी लाइन मे खड़े हो जाओ वो आपको धक्के मार मार के सफलता तक पहुच देंगे " कहने का मतलब की आप सफल लोगों के जीवन से सीखो अगर खुद अपने तरीकों से जिंदगी को समज ने की कोशिश करोगे तो पूरी जिंदगी कम पड जाएगी।


 इससे बहेतर हैं की आप सफल लोगों की व्यूहरचना को अपनाओ और जहापर उसने गलती की है वहा आप खुद की गलती सुधारते जाओ।

 तुम्हारे लक्ष्य से ध्यान भटकाने वाले तमाम नकारात्मक लोगों को अपने से दूर करदो  

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां